Follow by Email

Sunday, February 21, 2010

ROMANI KAVITA

मद मस्त फिज़ाओ से बह कर
एक शोख महक सी आई है
उन यादो में फिर खोया हु
पर दिल में तो तन्हाई है

साँसों से नर्मल तेरी खुशबू
मेरे रोम रोम में समाई है
उन यादो में फिर खोया हु
पर दिल में तो तन्हाई है

तेरे अधरों की जो लाली है
उगता सूरज तेरी परछाई है
उन यादो में फिर खोया हु
पर दिल में तो तन्हाई है

बारिश की बूंदे फिर थमने लगी
जैसे तू फिर शरमाई है
उन यादो में फिर खोया हु
पर दिल में तो तन्हाई है

इन्द्र धनुष अब बना है नभ में
पर चमक तेरी चुराई है
उन यादो में फिर खोया हु
पर दिल में तो तन्हाई है

तुझसे मिलने को उत्सुक हु
समय ने फिर कथा दोहराई है
उन यादो में फिर खोया हु
पर दिल में तो तन्हाई है

1 comment:

  1. GOOD PHILOSOPHY AT A VERY SMALL AGE, KEEP IT UP DUDE U COUDA BE A WRITER IF U WANNA BE

    ReplyDelete