Follow by Email

Sunday, February 21, 2010

KUCH NAGME

तेरे बिन कहे तेरी आँखे पढ़ ली मैंने
बिना इजाजत तेरी साँसे मुट्ठी में भर ली मैंने
तेरा साथ पाकर हमने
एक और जिंदगी जी ली मैंने

होश में मदहोशी का है जमाना
तेरी आँखे है की शराब का पैमाना
दो घूंट हमने भी मार ली इसकी
अब तेरे प्यार का भर रहे है हर्जाना

No comments:

Post a Comment